Love Massage to Impress Girl



खूबसूरती तेरी लोगो को दीवाना बनती हैं,
धुप में मानो ठंडक दे जाती हैं,
सलामत रहे तेरे होंठो पर हंसी,
क्युकी ये हंसी ही तुझको चाँद की तरह खिला जाती हैं


आँखो की चमक पलकों की शान हो तुम,
चेहरे की हँसी लबों की मुस्कान हो तुम,
धड़कता है दिल बस तुम्हारी आरज़ू मे,
फिर कैसे ना कहूँ मेरी जान हो तुम..


जिंदगी में मेरी हंसी का राज तुम हो.
मेरी हर ख़ुशी का नाम तुम हो.
कर लूंगा में ज़माने से तुम्हारे लिए शिकवा.
ज़माने की शिकवा का एहसास तुम हो।।



सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
हजारों फूल देखे हैं इस गुलशन में मगर,
खुशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो।


उसके नैना जैसे नील कमल..
उसका चेहरा जैसे सुबह की किरण..
उस पर ये बाल घनेरी सी..
कर देता है पागल तन मन..
लगता जैसे मैं पिछले जनम से ही उससे मुखातिब हूँ..
शायद लोग तभी कहते ‘आवारा आशिक़’ हूँ..


री हर ख़ुशी हर बात तेरी हैं,
सांसों में छुपी ये हयात तेरी हैं
दो पल भी नहीं रह सकते तेरे बिन
धड़कनो की धड़कती हर आवाज़ तेरी हैं


दिल की हसरत ज़ुबान पे आने लगी….  तूनेदेखा और ज़िन्दगी मुस्कुराने लगी….   ये इश्क़ की इन्तहा थीया दीवानगी……. मेरी हर सूरत में सूरत तेरी नज़र आनेलगी…..



तुम्हारे मुस्कुराने पे मैं हर दर्द भूल जाता हूँ.
मिले जो आंसू मुझे जमाने से मैं उनको पी जाता हूँ.
पता नहीं क्या बात हैं तेरे इस चेहरे में
इसे देखता हु तो मैं अपना चेहरा भूल जाता हूँ




नैनो से नैन मिलाकर, मोहब्बत का इजहार करूँ,
बन कर ओस की बुँदे, जिन्दगी तेरी गुलजार करूँ,
संवर जाएगी तेरी मेरी जिन्दगी, इश्क के सफर में
थाम ले तू हाथ मेरा, मैं तेरे हर वादे पे ऐतबार करूँ…


अरबों की गिनती तो हमें आती नहीं,
पर दिल का एक ख़याल आपसे कह दू.
अगर पानी की एक बून्द ख़ुशी बनती हैं तो,
तोहफे में आपको सारा समुंदर ही दे दू


नज़र से दूर हैं फिर भी फ़िज़ा में शामिल हैं
की तेरे प्यार की खुशबू हवा में शामिल हैं

हम चाह कर भी तेरे पास आ नहीं सकते
की दूर रहना भी मेरी वफ़ा में शामिल हैं

ख़ज़ाने गम के मेरे दिल में दफन हैं यारों
ये मुस्कुराना तो मेरी अदा में शामिल हैं


मेरी मेहबूब बहुत शर्मीली है,
मेरे दिल में हर पल उसकी तस्वीर है,
हर जगह, हर पल सूरत नजर आने लगी है
मोहबत अब तो ओर भी गहरी होने लगी है


अंदाज-ऐ-प्यार तुम्हारी एक अदा है..
दूर हो हमसे तुम्हारी खता है..
दिल में बसी है एक प्यारी सी तस्वीर तुम्हारी..
जिस के नीचे ‘आई लव यू’ लिखा है..


है मौसम प्यार का थोड़ा प्यार तो कर लो,
करते हो मोहब्बत अगर तो बाहों में तो भर लो
चलो मेरे संग सपनो की दुनिया में घूम लो,
रोज़ हम चूमा करते हैं आज तुम हमे चूम लो…


रात तेरी बाहों में सिमटे तो सुबह बड़ी हसीं लगने लगी.,
आये जो तुम मेरी दुनिया में ये दुनिया रंगीन लगने लगी..
तेरे आने से बहार का आना और जाने से बहार का जाना.,
अब हर एक मौसम तेरी मौजूदगी बेहतरीन लगने लगी..


तुझे पलकों पे बिठा के रखू मैं,
करके हद से जादा प्यार सीने से लगा के रखू मैं,
बेहद कीमती हो तुम मेरे लिए
तुम्हे दिल में छुप के अपनी जान बना के रखू मैं.।।।


छू गया जब कभी ख्याल तेरा,
दिल मेरा देर तक धड़कता रहा,
कल तेरा ज़िक्र छिड़ गया घर में,
और घर देर तक महकता रहा ।।


तरसती नज़रों की प्यास हो तुम,
तड़पते दिल की आस हो तुम,
बुझती ज़िंदगी की साँस हो तुम,
फिर कैसे ना कहूँ कुछ खास हो तुम..!!

टकराने लगे तेरे होंठ मेरे होंटो से जब,
तेरे प्यार के शोले मेरे जिस्म में सुलगने लगे,
मुकम्मल जहां पा लिया सनम तेरे प्यार में आज,
तेरी चाहत के करार-ए-इश्क़ में हम पिघलने लगे।।


अपनी मोहब्बत कि खुशबु से नुर कर दे,
जुदा न हो सकु इतना मगरुर कर दे,
मेरे दिल मे बस जाए वफ़ा तेरी ,
किसी और को ना देखु मुझे इतना मजबुर कर दे..।।


दिल बस अब तुझे ही चाहता है,
तेरी यादो में ये खो जाता है,
लग गयी है इसमें इश्क़ की आग ऐसी के,
तुझे चूमने को जी चाहता है….।।।


काश ये शाम कभी ढले ना,
काश ये शाम मोहब्बत का रुके ना,
हो जाए आज दिल की चाहते सारी पूरी
और दिल की कोई चाहत बचे ना..।।


बिन बात के ही रूठने की आदत है,
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है,
आप खुश रहें, मेरा क्या है..
मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है।।।


महफ़िल में गले मिल के वो धीरे से कह गए,
ये रस्म-ए-अंजुमन है चाहत का गुमाँ न कर।


चाहत बन गये हो तुम या आदत बन गये हो तुम..
हर सांस में यू आते जाते हो जैसे मेरी इबादत बन गये हो तुम।।


हमारी गलतियों से कही टूट न जाना,
हमारी शरारत से कही रूठ न जाना
तुम्हारी चाहत ही हमारी जिंदगी हैं
इस प्यारे से बंधन को भूल न जाना..।।


कोई चाहत की बात करता है
तो कोई चाहने की…।।।
हम दोनोँ आज़मा के बैठे हैँ..
ना चाहत मिली..ना तो चाहने वाले.।।


तेरे ख़ातिर हम ने सारी दुनिया को भुला दिया
तू ने तो दुनिया के लिए अपने सच्चे चाहने वाले को ही भुला दिया।
कुछ न कहा, खामोशी से मेरा हाथ छोड़ दिया
हस्ते-हस्ते तू ने मुझे रुला दिया।।


मिलने की चाहत भी थी
ज़माने का डर भी था।
शिकायत दुनिया से थी
साथ में तुझे खोने का डर भी था।



एक ख्वाब एक ख़याल एक हकीक़त है तू,
जिंदगी में पाने वाली हर ज़रूरत है तू,
जिसको रोज़ प्यार करने का दिल करे,
अरे यार वही प्यारी सी चाहत है तू…।।